Categories
Anmol Radio By Artists Post By Gajendra Khanna

Trip to Moon : A Tribute to Moon Songs

I have been thinking of doing this programme for sometime. I was inspired by Isha ji, Sushila ji and Padmini ji of Radio Ceylon for doing a programme on songs related to the moon. There are numerous songs in Hindi films that focus on the Moon, Moonlight, stars which is a very interesting theme. So, today, you’re all going with me on a trip to the moon where we explore many songs featuring the symbol of romance, the Moon as a prominent theme.

One of the earliest songs I remember hearing related to the theme is actually a ‘Moon’ song because It is an English song in a Hindi film, probably one of the oldest ones, sung by Devika Rani for the film Karma (1933). The song, ‘Now The Moon Her Light Has Shed’ is a proper western tune composed by German composer Ornest Broadhurst and song. The style is typical of the high pitched English songs one hears on 78 rpms of the 20s by people like Rudy Valee. Its quite a short song, typical of the early days, where recordings of the songs on the sets with all the paraphenalia was not so easy. This film had also created a controversy for reportedly, the first kiss in Hindi talkie films, when released.

Let’s listen to it:-

So, this was an example of how Moon theme is ingrained not only in our culture but also in our Hindi films which are a reflection of our society to a large extent.

This was of course, not the only case of Devika Rani ji, who was called ‘Satyam Shivam Sundaram’ in her heyday by her fans (It’s what inspired Pandit Narendra Sharma ji to write the title of the famous film years later!). She has sung more than one moon songs.

Let’s listen to Devika ji and Ashok Kumar singing one such moon song, ‘Bolo Sajni Bolo Chanda Ko Dekh Kyun Bhor Gayi Hai’ for the movie Nirmala (1938) composed by Saraswati Devi and written by the famous J S Kashyap.

Song 2:       Bolo Sajani Bolo - Nirmala 1938 - Devika Rani, Ashok Kumar

It is quite interesting to note that in many cultures, the moon is treated as someone perfect and in many cases, the lovers are adoringly called by different names of the moon itself. A pretty young damsel often wonders, whether She herself is the moon. Let’s listen to the one and only Khurshid sing one such song for composer Khemchand Prakash for the movie Chandani where She is wondering whether She is the moon or moonlight. The lyricist is the versatile D N Madhok.

Song3:       Main Chanda Hoon Ya Chandni - Chandni 1942 - Khursheed

This was a case where the damsel is calling herself the ‘chanda’ and many other adjectives. In many songs, one finds the lovers calling one the chand and the other the chakor or chakori. आजकल की हमारी नई पीढ़ी ने शायद चकोर का नाम ही सुना होगा। यह एक तीतर की प्रजाति का पक्षी होता है जिसे हमारी संस्कृति में चाँद का प्रेमी माना गया है और काव्यों में इनका ज़िक्र मिलता है। यदि प्रेमी को चाँद की उपमा दी जाए तो प्रेमिका चकोरी बन जाती है और प्रेमिका को चाँद कहा जाए तो प्रेमी बन जाता है चकोर। आईए फिल्म बिरहन का एक गीत सुनें :-

Song 4:       Tu Chanda Main Chakori - Birhan 1948

इस मीठे गीत के रिकॉर्ड पर एसा प्रतीत होता है कि गायकों के नाम नज़ीरा और राजा गुल दिए गए हैं पर आवाज़ों से एसा लगता है कि गीत वास्तव में शायद दिलशाद बेगम और एस डी बतीष ने गाया है। इस गीत के संगीतकार थे लच्छीराम जी। गीतकार बेकल अमृतसरी जी या सरशार सैलानी जी में से कोई हैं। किसी के पास इस गीत का रिकॉर्ड व बुकलेट हो तो ज़रुर साझा करें ताकि गायकों व गीतकारों की सही जानकारी हमें मिले।

आईए एक अन्य गीत सुनें जिसमें प्रेमी को चंदा कहा गया है और प्रेमिका को चकोरी। फिल्म है आगोश, गायक हैं लता बाई और किशोर कुमार, गीतकार हैं इन्दीवर व संगीतकार हैं रोशन :-

Song 5:       Tu Hai Chand To - Aagosh 1953 - Lata

कई गीतों में आप पाएँगे कि जब प्रेमी या कोई अन्य चीज़ जैसे नींद इत्यादि न मिल रही हो तो यह कहा जाता है कि व दाँद के देस या चाँद की नगरी से आनी है। आईए मेरी एक बेहद ही पसंदीदा लोरी सुनें नूरजहाँ जी की आवाज़ में, संगीत है बाबा चिश्ती यानि गुलाम अहमद चिश्ती जी का, फिल्म है लख्त-ए-जिगर और गीत लिखा है नज़ीम पानीपती जी ने।

कुछ अन्य गीतों में आप पाएँगे कि चोरी-छिपे मिलने वाले प्रेमी-प्रेमिका यह मानते हैं कि चाँद उन्हें देख रहा है जिससे उन्हें शर्म आती है। जब शर्म आती है तो वे सोचते हैं कि चाँद चला ही जाए वहाँ से ताकि प्रेमियों को एकाँत मिल जाए। ‘दम भर जो उधर मुँह फेरे’ एसा ही एक गीत है जो हमने कई बार सुना है। आईए पाकिस्तान की दूसरी शानदार आवाज़ों ज़ुबैदा खानुम को सुनें सलीम रज़ा के साथ एसे ही गीत में जिसे लिया गया है फिल्म इश्क-ए-लैला से, संगीतकार हैं सफदर हुसैन और लिखा है कतील शिफाई जी ने:-

कभी तो चाँद प्रेमियों को देखता है और कभी-कभी जब वे मिल नहीं पाते तो प्रेमियों को एक दूसरे का संदेसा भी दे जाता है। एसा ही एक गीत आईए सुनते हैं फिल्म ज़िद्दी से लता बाई की आवाज़ में, प्रेम धवन के बोल हैं और संगीत है खेमचंद प्रकाश का :-

Song 8:       Chanda Re Jaa Re Jaa Re - Ziddi 1948 - Lata

प्रेमी वैसे तो अभी छुप रहे थे पर कभी एसा भी होता है कि वे तन्हाई में चन्दा को प्रेम मिलन का साक्षी भी मान लेते हैं। एक बहुत ही खूबसूरत गीत मुझे इस तरह का याद पड़ता है जिसे फिल्माया गया था चाँद से सलोने चेहरे वाली मधुबाला पर, गाया था पंजाब की कोयल सुरिन्दर कौर ने, बोल थे डी एन मधोक ने, संगीत था खुर्शीद अनवर का और फिल्म थी सिंगार। इस गीत को जितनी बार भी सुनूँ या देखूँ मन ही नहीं भरता। आप भी आनन्द लीजिए इस गीत का जिसमें मधुबाला के साथ जयराज जी भी हैं :-

वाह क्या गवाही दी है चंदा ने प्रेमियों के मिलन की। इस थीम पर मेरे पास अन्य कई और गीत हैं। यदि आपको यह कार्यक्रम पसंद आया हो तो इसके और अंक की फरमाईश करना न भूलें और फिर हम करेंगे एक और ट्रिप टु मून। अन्त में मैं यही कहूँगा कि जब तक चाँद है, मानव हैं, चाँद, चाँदनी, रातें रोमांस का अभिन्न अंग बने रहेंगे। एक एसी ही खूबसूरत चाँदनी रात के गीत से इस प्रोग्राम को समाप्त करते हैं। गाया है हृदय सम्राट कुन्दन लाल सहगल ने स्वरों की मल्लिका खुर्शीद के साथ फिल्म भक्त सूरदास में, संगीत है संगीतकारों के पितामह आर सी बोराल जी का और बोल हैं वन एन्ड ओनली दीना नाथ मधोक के। अब अपने दोस्त गजेन्द्र खन्ना को इजाज़त दीजिए। शुभ रात्रि।

By admin (Gajendra Khanna)

Founder and Administrator. geetadutt.com, madamnoorjehan.com, shamshadbegum.com, anmolfankaar.com
He's a Bangalore based Music and Technology enthusiast.
gajendrakhanna.com is his upcoming website.

6 replies on “Trip to Moon : A Tribute to Moon Songs”

Beautiful bunch of songs, a trip down to
The memory land. Enjoyed each and every single song. Thank you Gajanandji
For a marvelous moon 🌙 songs. Awaiting the next presentation

Leave a Reply to Nafisa Abbas Amin Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *